March 20, 2010

अस्त हो गया हिंदी साहित्य का मार्कन्डे नाम का सूरज....


हिंदी साहित्य में नई कहानियों के आन्दोलन का बुनियादी लेखक मारकंडे जी अब हमारे बीच नहीं रहे 1955 में उन्होंने '' हंसा जाई अकेला'' नामक कहानी से हिंदी साहित्य में नई कहानियो को नया रूप दिया।

उत्तर प्रदेश के मैनपुरी इटावा में जन्मे मारकंडे जी के जीवन का पूरा समय इलाहबाद में गुज़रा। मारकंडे जी जिंदादिल और हंसमुख व्यक्ति थे, नवजवानों से उनका अनूठा अनुराग था। उन्होंने एक दर्जन से अधिक कहानी संग्रह की रचना की ,और अग्निपथ ,सेमल के फूल नामक बहुचर्चित उपन्यास भी लिखे। मारकंडे जी ने अपना पूरा जीवन हिंदी साहित्य को समर्पित किया ।

इसी गुरुवार (17 march) को दिल्ली में एक कैंसर अस्पताल में हिंदी के महान लेखक ने अंतिम साँस ली ।

''विचारों का दर्पण'' की ओर से महान लेखक को श्रधांजलि ।


3 comments:

श्याम कोरी 'उदय' said...

...श्रद्धांजलि ...श्रद्धांजलि ...श्रद्धांजलि ...!!

Anonymous said...

bahut sidhaa sidhaa likhaa hai.badhaai.


http://apnimaati.feedcluster.com/

संजय भास्कर said...

...श्रद्धांजलि ...!!

एक नज़र इधर भी

Related Posts with Thumbnails