March 27, 2010

अर्थ आवर ( सायं 8.30 से 9.30 )

विकास पाण्डेय

आज 27 मार्च है, वैसे तो कोई ऐतिहासिक दिन नहीं है,लेकिन यदि हम चाहें तो इसे अविस्मर्णीय दिवस बना सकते हैं बस हमें रूपये कि मोमबत्ती खरीदनी होगी और बिजली से महज एक घंटे तक दूर रहना होगा अगर हम ऐसा करते हैं तो हम दुनिया भर के लाखों- करोड़ों लोगों कि जलवायु परिवर्तन और ऊर्जा संरक्षण [अर्थ आवर] की इस मुहिम में शामिल हो जायेंगे

वैसे अपनी धरती को हरा भरा बनाने के लिए ये आइडिया ग़लत नहीं है,तभी तो 2007 से शुरू हुए इस अभियान में अभी तक छोटे - बड़े देशों को मिलाकर लगभग 90 देश और 4000 शहर जुड़ चुके हैं जब हम अपनी स्वेच्छा से अपने घरों की बत्ती बुझाते हैं तो हम समाज और दुनिया को बेहतर बनाने के आन्दोलन का अहम हिस्सा बन जाते हैं
अर्थ आवर ने दुनिया में ऊर्जा संरक्षण को बचाने की छोटी कोशिश में अपना विशेष योगदान दिया है वैसे मुझे लगता है की किसी भी महान कार्य का आगाज़ छोटे से ही होता है कौन जानता था की 2007 सिडनी ,आस्ट्रेलिया से शुरू हुई इस मुहिम में आज इतने सरे लोगों का समर्थन मिल जाएगा

वैसे इस साल लोगों को जागरूक करने के लिए अर्थ आवर का ब्रांड अम्बेसडर फिल्म अभिनेता अभिषेक बच्चन को बनाया गया है अर्थ आवर के प्रति लोगों में जागृति पैदा करने के लिए इस बार दिल्ली की सड़को पर नवयुवकों ने जगह - जगह साईकिल रैलियाँ निकाली और लोगों को इस संवेदनशील अभियान में जोड़ने का प्रयास किया

सिर्फ एक दिन ! एक दिन क्या , एक घंटा अर्थ आवर मनाने से कुछ नहीं होने वाला है हमको प्रतिदिन थोड़ा जागना होगा और अपनी तरफ से जितना हो सके कोशिश करनी होगी तब जाकर इस तरह की कोशिशें सफल होंगी ,खैर जिस दिन होली होती है उस दिन गुझिया खाने का स्वाद कुछ और ही होता है तो आज अगर एक विशेष घण्टा ( 8.30 pm - 9.30 pm) अर्थ आवर के नाम है तो मैं इसके लिए बहुत उत्साहित हूँ और इसका अभिनन्दन करता हूँ साथ में आपसे यह आग्रह करता हूँ की आप भी कृपया इसमें सहयोग दें

10 comments:

संजय भास्कर said...

yaad dilane ke liye dhanyawaab devesh bhai.

Udan Tashtari said...

एक दिन से शुरु तो हो..हम तो सहयोग दे रहे हैं.

श्याम कोरी 'उदय' said...

...बेहद प्रभावशाली अभिव्यक्ति!!!

vikas said...

भास्कर साहब विचारो का दर्पण पर मैं भी अपना विचार व्यक्त करता हूं (विकस पाण्डेय )

kunwarji's said...

hum sath-sath hai....

kunwar ji,

दिगम्बर नासवा said...

स्वागत योग्य हैं ऐसे प्रयास .........

Kulwant Happy said...

काश आदत बन जाए।

यहीं सुझाव हिफाजत बन जाए\

दीपक 'मशाल' said...

9 minute rahte hain 8:30 me chaliye bujha deta hoon... :) vaise ye khoob rahi ki pichhli post par candle aapne pahle hi jala rakhi hai.

Parul said...

aapka jikra hi aapki fikra hai.. :)

SAMVEDANA KE SWAR said...

there is an innocence in your posts..just like a fighting PARWAANA with the SHAMAA of social concerns..keep fighting devesh ji..

एक नज़र इधर भी

Related Posts with Thumbnails