July 29, 2010

देखते है निष्कर्ष क्या होता है .......

देवेश प्रताप

आखिर हम भी गंगा नहा लिए ......मतलब डकुमेन्ट्री फिल्म शूट कर लिए बस कुछ दिन में सम्पूर्ण करके आप सब के सामने प्रस्तुत करेंगे चलि बात करते है अपने विषय के बारे में .....मैंने इलाहबाद विश्वविद्दालय पर फिल्म बनाने का विषय तय किया ......इसका कारण इलाहाबाद विश्वविद्दालय से ताल्लुकात रखने का और फिर भारत कि प्रतिष्ठित विश्वविद्दालय में से एक .....साहित्य , कला , राजनीति .......तथा प्रशासनिक सेवा के लिए बहुत से महान हस्तियों को जन्म दिया लेकिन पिछले कुछ वर्षों से धीरे धीरे विश्वविद्दालय का सूरज ढलता हुआ नज़र आने लगा अभी हाल ही में इंडिया टुडे ने पुरे भारत के विश्व्विदालय कि रैंकिंग किया जिसमे इलाहबाद विश्व्विदालय को २३ वा स्थान दिया गया इन्ही कुछ बातो पर प्रकाश डालते हुए ......इस डकुमेन्ट्री के द्वारा इलाहाबाद विश्व्विदालय के बारें में दर्शाने का पूरा प्रयाश किया है
एक हफ्फ्ते इलाहबाद में खूब मुज मस्ती के साथ फिल्म शूट किया .........मै विकास , प्रांकुर दीक्षित .......और इलाहाबाद से और दो मित्र शशिकां और सौरभ ........हम सब मिलकर फिल्म शूट किये अब देखते है निष्कर्ष क्या निकलता है फिल्म एडिट करने के बाद ............कुछ तस्वीरें ....


4 comments:

kshama said...

Intezaar hai!

संजय भास्कर said...

बहुत पसन्द आया

shama said...

Ruke hain!

चला बिहारी ब्लॉगर बनने said...

हमरा आसिर्बाद रहेगा! ऑल इज वेल बोलो!! हमरा ऊ जगह से तीस साल का लगातार सम्बंध रहा है… पटना जाते समय रात के दू बजे उठकर हम ऊ जगह का दर्सन कर लेते हैं...

एक नज़र इधर भी

Related Posts with Thumbnails